Homecgnewsबीजापुर के चार और नारायणपुर के दो गांव में फैली बीमारी से...

बीजापुर के चार और नारायणपुर के दो गांव में फैली बीमारी से 39 मौतें, अब भी 50 से ज्‍यादा बीमार, बीमारी का पता नहीं…

बीजापुर। बीते दो महीनों से हो रही बारिश और बाढ़ ने आदिवासी इलाकों में तबाही मचा दी है। बीजापुर जिले के अंदरूनी इलाके में सुविधाओं के अभाव में ग्रामीण मौत के आगोश में समा रहे हैं। नदी, नालों और बाढ़ से डूबे रास्तों ने मरीजों के जीवन को टापू में तब्दील कर रखा है। छत्तीसगढ़ के दो जिले बीजापुर व नारायणपुर इन गंभीर हालातों से मौतों की आगोश में हैं। यहां मरने वालों में ज्यादा जनसंख्या आदिवासियों की है, जो बुखार और शरीर में सूजन की शिकायत के बाद इनकी अचानक मृत्यु हुई है। नारायणपुर का माड़ व बीजापुर भैरमगढ़ का इंद्रावती नदी पार के गांव है।

मिली जानकारी अनुसार इंद्रावती नदी पार मर्रामेटा, रेकावाया,पेंटा, गुडरा ,पीडियाकोट और बड़े पल्ली क्षेत्र में महामारी की स्थिति निर्मित हो चुकी है। दो माह के भीतर ही बीजापुर जिले के मर्रामेटा पंचायत में 12 ग्रामीणों की, पेंटा पंचायत में 3, पीडियाकोट पंचायत में 7, बड़े पल्ली पंचायत में 7 लोगों की शरीर फूलने और तेज बुखार के कारण मौत हो गई है। वहीं नारायणपुर जिले के अंतर्गत आने वाली ग्राम रेकावाया, गुडरा में 10 ग्रामीणों की इन्हीं लक्षणों वाली बीमारियों के कारण मौत होने की जानकारी आ रही है।

सूत्रों ने बताया कि इन क्षेत्रों में अब भी 50 से अधिक ग्रामीण ऐसे ही बीमारियों के चपेट में है। इन ग्रामीणों की सुध लेने वाला कोई नही है। सूत्र यह भी बताते है कि बीते 5 माह से कोई भी स्वास्थ अमला इन क्षेत्रों में नहीं पंहुचा है। इससे क्षेत्र के ग्रामीण आदिवासीयों की असामयिक मृत्यु होना, निश्चित ही चिंता का विषय है। ग्रामीणों में एक तरह से दहशत बनी हुई है। 

इन गांवों में शिक्षा के अलावा स्वास्थ्य विभाग का प्रचार-प्रसार भी वैसा नहीं हुआ है, जैसा होना चाहिए। स्वास्थ्य विभाग अगर इन्ही की भाषा में ऐसे क्षेत्रों में जागरूकता पैदा करें तो निश्चित है, इन ग्रामीणों की स्वास्थ्य व सेहत में सुधार आ सकती है। लेकिन विभाग की इन इलाकों में न पहुंचना गंभीर विषय है। 

सूत्रों ने बताया कि मजबूरन ग्रामीण मरीज गांव में ही सिरहा, बैगा-गुनिया से अपना उपचार करवा रहे है, वहीं परिजन अपने बीमार रिश्तेदारों को धीरे-धीरे मौत के आगोश में जाते देख रहे है। उन्हें अब शासन, प्रशासन से कोई उम्मीद नही है, इसी सोच के चलते ग्रामीण यह मान चुके है कि उनकी जिंदगी की कोई मोल नहीं। इन क्षेत्रों के ग्रामीणों का मानना है कि कोई भी स्थानीय जनप्रतिनिधि उनके क्षेत्रों के ओर रुख करने का कभी सोचते ही नहीं है। 

सिरहा गुनिया से इलाज कराने के भी कुछ अजीब तर्क है। क्षेत्र के सिरहा गुनिया से इलाज कराने वाले के भी यहां के ग्रामीण आदिवासियों के अपने तर्क हैं उनका मानना है कि कुछ बीमारियां सिरहा गुनिया ठीक करते हैं लेकिन जब उनके हाथों से सब निकल जाता है, तो मौत ही एकमात्र सत्य बनकर सामने आता है। आजादी के 75वें अमृत महोत्सव में भी देश सिरहा गुनिया के अंधकार और अंधविश्वास से बाहर नहीं आया है। 

कलेक्टर बीजापुर ने कहा- मेडिकल टीम के वापस लौटने पर ही सही जानकारी मिल सकेगी

बीजापुर के कलेक्टर राजेन्द्र कटारा ने माना कि उन्हें मीडिया के माध्यम से इसकी जानकारी मिली है। स्वास्थ्य सुविधाएं तथा दवाईयों के साथ मेडिकल टीम को प्रभावित क्षेत्रों के लिए रवाना कर दिया गया है। स्वास्थ्य अमला के वापस लौटने पर ही सही आंकड़े का पता चल सकता है। हमने‌ स्वास्थ्य विभाग की टीम को निर्देश दिया है कि सभी बीमारों का इलाज करें, साथ ही किन कारणों से मौतें हुई इसकी जानकारी लें।

Prakash Shukla
Prakash Shuklahttps://24cgnews.com
Blogger/Reporter/YouTuber
Stay Connected
3,000FansLike
2,458FollowersFollow
15,000SubscribersSubscribe

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here