Amul ने दूध की कीमतों को लेकर दी बड़ी राहत, दिल्ली से लेकर गुजरात तक आम लोगों को होगा फायदा

Amul Milk- India TV Hindi
Photo:FILE Amul Milk

दूध भारत के हर घर का एक सबसे अहम हिस्सा है, लेकिन दूध पर इस साल महंगाई की मार इस कदर पड़ी है कि कीमतों में 4 बार बढ़ोत्तरी करनी पड़ी है। आखिरी बढ़ोत्तरी पिछले सप्ताह ही हुई है। इस बीच देश की सबसे बड़े दुग्ध वितरक अमूल (Amul Milk) ने लोगों के लिए बड़ी राहत की बात कही है। कंपनी के अनुसार अमूल दूध (Amul Doodh) की कीमतें बढ़ाने की अभी फिलहाल कोई योजना नहीं है। 

संस्था के प्रबंध निदेशक (एमडी) आर एस सोढ़ी ने कहा कि अमूल ब्रांड के तहत दूध का विपणन करने वाली सहकारी संस्थान गुजरात सहकारी दुग्ध विपणन संघ (जीसीएमएमएफ) की निकट भविष्य में देश में दूध की कीमतें बढ़ाने की कोई योजना नहीं है। जीसीएमएमएफ, मुख्य रूप से गुजरात, दिल्ली-एनसीआर, पश्चिम बंगाल और मुंबई के बाजारों में दूध बेचता है। यह सहकारी संस्थान प्रतिदिन 150 लाख लीटर से अधिक दूध बेचता है, जिसमें से दिल्ली-एनसीआर में लगभग 40 लाख लीटर दूध की बिक्री होती है। 

मदर डेयरी ने 1 रुपये बढ़ाए दाम 

इस हफ्ते की शुरुआत में, मदर डेयरी ने लागत बढ़ने का हवाला देते हुए दिल्ली-एनसीआर के बाजार में फुल-क्रीम दूध की कीमतों में एक रुपये प्रति लीटर और टोकन दूध में दो रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की थी। अब फुल क्रीम दूध 63 रुपए प्रति लीटर की जगह 64 रुपए प्रति लीटर का हो गया है। वहीं टोकन वाला दूध 48 रुपए प्रति लीटर की जगह 50 रुपए लीटर के भाव से मिल रहा है। लेकिन फुल क्रीम दूध के 500 एमएल पैक की कीमत में कोई संशोधन नहीं किया गया है। 

लागत में नहीं हुई वृद्धि 

यह पूछे जाने पर कि मदर डेयरी द्वारा दूध कीमतों में वृद्धि किये जाने के बाद क्या जीसीएमएमएफ की दूध की कीमतों में वृद्धि की कोई योजना है, सोढ़ी ने कहा, ‘‘निकट भविष्य में कोई योजना नहीं है।’’ उन्होंने आगे कहा कि अक्टूबर में पिछली बार खुदरा मूल्य वृद्धि के बाद से लागत में ज्यादा वृद्धि नहीं हुई है। 

अक्टूबर में ही बढ़े थे दाम

अक्टूबर के मध्य में जीसीएमएमएफ ने अमूल गोल्ड (फुल-क्रीम) और भैंस के दूध की कीमतों में दो रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की। यह वृद्धि, चुनावी गुजरात को छोड़कर, बाकी सभी बाजारों में हुई है। गुजरात में दिसंबर की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होंगे। दाम में इस बढ़ोतरी के बाद अमूल गोल्ड की कीमत 61 रुपये से बढ़ाकर 63 रुपये प्रति लीटर जबकि भैंस के दूध की कीमत 63 रुपये से बढ़ाकर 65 रुपये प्रति लीटर हो गई। 

अमूल ने 3 बार मदर डेयरी ने 4 बार बढ़ाए दाम 

जीसीएमएमएफ ने इस साल तीन बार दूध की कीमतों में बढ़ोतरी की है, जबकि मदर डेयरी ने चार बार ऐसा किया है। मदर डेयरी दिल्ली-एनसीआर में प्रति दिन 30 लाख लीटर से अधिक बिक्री की मात्रा के साथ अग्रणी दूध आपूर्तिकर्ताओं में से एक है। दूध की कीमतों में बढ़ोतरी ने घरेलू बजट पर ऐसे समय में दवाब डाला है जब खाद्य मुद्रास्फीति पहले से ही उच्च स्तर पर है। 

मदर डेयरी ने बढ़ती लागत को बताया कारण 

मदर डेयरी ने कीमतों में बढ़ोतरी के लिए डेयरी किसानों से कच्चे दूध की खरीद लागत में वृद्धि को जिम्मेदार ठहराया है। इसके प्रवक्ता ने कहा, ‘‘इस साल पूरे डेयरी उद्योग में दूध की मांग और आपूर्ति में भारी अंतर देखा जा रहा है।’’ कंपनी ने कहा कि मवेशी चारे की बढ़ती लागत के कारण कच्चे दूध की उपलब्धता प्रभावित हुई है तथा अनिश्चित मानसून के कारण कच्चे दूध की कीमतों पर दबाव है। दुनिया में दूध के सबसे बड़े उत्पादक देश, भारत में दूध उत्पादन सालाना लगभग 21 करोड़ टन का होता है।

Latest Business News

window.addEventListener('load', (event) => { setTimeout(function(){ loadFacebookScript(); }, 7000); });



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *