FD की तुलना में बॉन्ड बेहतर रिटर्न देते? जानिए किस तरह से निवेश करने पर होगा अधिक मुनाफा

सालों बाद इन बचतकर्ताओं को मिली बड़ी राहत- India TV Hindi
Photo:IANS सालों बाद इन बचतकर्ताओं को मिली बड़ी राहत

कोई भी व्यक्ति जब निवेश करने की सोचता है तो उसके दिमाग में सबसे पहला सवाल उससे होने वाले रिटर्न को लेकर होता है। वर्षो तक अपने बैंक खातों और एफडी पर लगभग कुछ भी नहीं पाने के बाद बचतकर्ता आखिरकार महंगाई के साथ तालमेल बिठाने के करीब आ रहे हैं।

एफडी और बॉन्ड पर दरों में बढ़ोतरी

बैंकों और एनबीएफसी ने भी एफडी और बॉन्ड पर दरों में बढ़ोतरी की है। इसके अलावा, घरेलू मोर्चे पर बैंकों को ऋण वृद्धि में तेजी को पूरा करने के लिए अपने पूंजीकरण स्तर को बढ़ाने की जरूरत होगी। यह एफडी और बॉन्ड जारी करने पर दी जा रही दरों में और योगदान देगा। एक एक्सपर्ट ने कहा कि निश्चित आय में निवेशकों के लिए अधिक फायदे को ध्यान में रखते हुए लॉक करने का यह एक अच्छा समय है, क्योंकि कुछ महीनों/तिमाहियों के बाद महंगाई कम हो सकती है और निश्चित आय निवेश पर सकारात्मक वास्तविक रिटर्न का लाभ मिलना शुरू हो सकता है।

FD की तुलना में बॉन्ड बेहतर रिटर्न देते

FD की तुलना में बॉन्ड बेहतर रिटर्न देते हैं। फिनवे एफएससी के सीईओ रचित चावला ने कहा कि महंगाई के दौर में भी FD निवेश का सुरक्षित तरीका है। हालांकि, FD या सेविंग बैंक खाते से रिटर्न बॉन्ड में निवेश की तुलना में काफी कम हो सकता है।

इस समय बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट पर लगभग 5.5 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है। ठीक उसी तरह जिस तरह पोस्ट ऑफिस डिपॉजिट पर सालाना 6.7 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है। हालांकि आर्थिक मंदी के दौरान भी बॉन्ड, विशेष रूप से सरकारी बॉन्ड में रणनीतिक निवेश उपयोगी हो सकता है।

इस तरीके से निवेश देगा शानदार रिटर्न

उन्होंने कहा कि किसी बॉन्ड में प्रभावी ढंग से निवेश करने का एक तरीका यह है कि इसे मैच्योरिटी की तारीख तक होल्ड करके रखा जाए और उस पर ब्याज की रकम वसूल की जाए। बॉन्ड से प्रभावी ढंग से बचाने का एक और तरीका है कि उन्हें रणनीतिक रूप से सही समय पर उसमें निवेश की गई प्रारंभिक राशि की तुलना में अधिक कीमत पर बेच दिया जाए। याद रखने वाली महत्वपूर्ण बात यह है कि बॉन्ड पर ब्याज दरों में विपरीत संबंध होता है और अगर ब्याज दरें बढ़ती हैं तो बॉन्ड की कीमतों में गिरावट की संभावना अधिक होती है, क्योंकि नए बॉन्ड की तुलना में इसका कूपन कम मूल्यवान होता है। महंगाई के दौरान भी बॉन्ड में निवेश करने के लाभों में सुरक्षा, अनुमानित आय धारा और विविधीकरण शामिल हैं।

Latest Business News

window.addEventListener('load', (event) => { setTimeout(function(){ loadFacebookScript(); }, 7000); });



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *