काबुल की जेल में बंद है ISIS में शामिल होने गई निमिषा, मां भारत में चाहती है बेटी पर मुकदमा

जेल- India TV Hindi

Image Source : REPRESENTATIONAL IMAGE
जेल

तिरुवनंतपुरम: इस्लामिक स्टेट समर्थक होने के कारण निमिषा फिलहाल काबुल की जेल में बंद है लेकिन उसकी मां बिंदू अपने भगवान से पूरी उम्मीद लगाए हुए है कि एक दिन उसकी बेटी जेल से रिहा होकर वापस भारत आएगी। अपनी बेटी के कामों के लिए जिस तरह से उसे निशाना बनाया जा रहा है, उससे वह विशेष रूप से परेशान हैं। बिंदु ने कहा, “मैंने कुछ गलत नहीं किया है और अगर मेरी बेटी ने गलत किया है, तो उस पर भारतीय कानून के तहत मुकदमा चलेगा और यह मेरा स्टैंड है।”

केरल से लापता थे 19 लोग

संयोग से, केरल सरकार द्वारा 2016 में विभिन्न केंद्रीय एजेंसियों- IB, NIA और RAW से संपर्क करने के बाद केरलवासियों के आईएस में शामिल होने की खबरें सामने आईं। राज्य से 19 लापता लोगों के बारे में रिपोर्ट की सत्यता के बारे में और कुछ रिश्तेदारों के अनुसार माना जाता है कि वह आईएस में शामिल हो गई थी। इन 19 लोगों में 10 पुरुष, छह महिलाएं और तीन नाबालिग शामिल हैं और इनमें से ज्यादातर कासरगोड के हैं और कुछ पलक्कड़ जिले के हैं और इसमें ईसाई और हिंदू धर्मान्तरित लोग भी हैं।

2016 में बिंदू, जो राज्य की राजधानी में मानाकाडू के पास रहती हैं, ने मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन से संपर्क किया और लापता बेटी का पता लगाने में मदद मांगी। लेकिन बाद में पता चला कि निमिषा ने अपनी दोस्त ईजा से शादी कर ली है, जो एक ईसाई थी और उसने इस्लाम कबूल कर लिया था। इसके आगे खबर आई कि वह अफगानिस्तान चली गई और मां-बेटी का आखिरी बार संपर्क नवंबर 2019 में हुआ था।

2019 में अफगान अधिकारियों के सामने किया था सरेंडर
चार महिलाएं – सोनिया सेबेस्टियन उर्फ आयशा, मेरिन जैकब उर्फ मेरिन, निमिशा नायर उर्फ फातिमा ईसा, और राफाएला – 2016-18 में खुरासान प्रांत (आईएसकेपी) में इस्लामिक स्टेट के क्षेत्र में रहने के लिए अपने परिवारों के साथ अफगानिस्तान गई थीं। उनके पति अलग-अलग हमलों में मारे गए और महिलाओं ने नवंबर 2019 में अफगान अधिकारियों के सामने सरेंडर कर दिया। और तभी से निमिषा और उसका छोटा बच्चा अब काबुल की एक जेल में बंद है।

भगवान कोई रास्ता निकालेंगे- बिंदू
बिंदू कह रही है कि उनको अभी तक जवाब नहीं मिला है क्योंकि पिछले साल बिंदू के बाद यह मुद्दा फिर से उठा, एक प्रमुख राष्ट्रीय अंग्रेजी दैनिक में छपी एक खबर पर प्रतिक्रिया व्यक्त की कि भारत सरकार के निमिषा सहित चार महिलाओं को देश में वापस लाने की संभावना नहीं है। उन्होंने कहा कि वह नहीं जानती कि उन्हें क्यों निशाना बनाया जा रहा है और वह कहती है कि दबाव में आकर उन्होंने दो बार अपनी जान लेने की कोशिश की थी।

आगे बिंदू ने कहा, “फिर मैं गंभीर अवसाद में आ गई और किसी तरह मैं उससे भी बाहर आई। मैं बार-बार आने वाली सभी चीजों से निपटने की पूरी कोशिश कर रही हूं। मैंने सब कुछ भगवान पर छोड़ दिया है और इसी तरह मैं शांति में रह पा रही हूं, लेकिन कई बार मैं टूट भी जाती हूं। मुझे विश्वास है कि मुझे न्याय मिलेगा क्योंकि भगवान कोई रास्ता निकालेंगे।”

Latest India News





Source link

By Ashish Borkar

“l still believe that if your aim is to change the world, journalism is a more immediate short-term weapon.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *