पर्सनल कंप्यूटर की बिक्री पर मंदी की मार, पिछले वर्ष बिक्री 16 प्रतिशत घटी
पिछले वर्ष पर्सनल कंप्यूटर (PC) के ग्लोबल मार्केट में 16 प्रतिशत की गिरावट रही है। इसके पीछे मंदी, एनर्जी की कॉस्ट में बढ़ोतरी और अधिक इंटरेस्ट रेट्स बड़े कारण हैं। पिछले वर्ष इस मार्केट में कुल शिपमेंट्स 28.51 करोड़ यूनिट्स की रही। डेस्कटॉप और नोटबुक की कुल शिपमेंट्स चौथी तिमाही में 29 प्रतिशत घटकर लगभग 6.54 करोड़ यूनिट्स की थी।

ग्लोबल PC मार्केट में Lenovo का पहला स्थान है। इसके बाद HP, Dell, Apple और Asus हैं। लगभग दो वर्ष पहले महामारी के दौरान दुनिया भर में PC की बिक्री तेजी से बढ़ी थी। हालांकि, पिछले वर्ष PC की शिपमेंट्स कोरोना से पहले की अवधि की तुलना में अधिक रही हैं। मार्केट रिसर्च फर्म Canalys की रिपोर्ट में बताया गया है कि पिछले वर्ष नोटबुक की शिपमेंट्स लगभग 19 प्रतिशत घटकर 22.38 करोड़ यूनिट्स रही। चौथी तिमाही में इसमें 30 प्रतिशत की भारी कमी हुई और इसकी शिपमेंट्स का आंकड़ा लगभग 5.14 करोड़ यूनिट्स का था।

मार्केट शेयर के लिहाज से Lenovo ने चौथी तिमाही और पूरे वर्ष में अपना पहला स्थान बरकरार रखा। कंपनी की शिपमेंट्स लगभग 1.55 करोड़ यूनिट्स की थी। चीन की इस कंपनी का पिछले वर्ष मार्केट शेयर 23.9 प्रतिशत का था। यह वर्ष-दर-वर्ष आधार पर लगभग 29 प्रतिशत की गिरावट है। दूसरे स्थान पर लगभग 1.32 करोड़ यूनिट्स की शिपमेंट्स के साथ HP रही। कंपनी की बिक्री में चौथी तिमाही में 29 प्रतिशत की कमी हुई है। HP का मार्केट शेयर 19.4 प्रतिशत का रहा। Dell को बिक्री के लिहाज से सबसे अधिक नुकसान उठाना पड़ा है। कंपनी की बिक्री लगभग 37 प्रतिशत घटकर 1.08 करोड़ यूनिट्स की थी। अमेरिका की इस कंपनी का पिछले वर्ष मार्केट शेयर 17.4 प्रतिशत का था।

स्मार्टफोन के ग्लोबल मार्केट को भी स्लोडाउन से नुकसान हो रहा है। इस वजह से मौजूदा वर्ष की तीसरी तिमाही में स्मार्टफोन का ग्लोबल प्रोडक्शन घटा है। स्मार्टफोन इंडस्ट्री ने जुलाई से सितंबर के दौरान लगभग 28.9 करोड़ यूनिट्स का प्रोडक्शन किया था। यह दूसरी तिमाही की तुलना में 0.9 प्रतिशत और वार्षिक आधार पर लगभग 11 प्रतिशत की कमी थी। दक्षिण कोरिया की Samsung ने स्मार्टफोन की मैन्युफैक्चरिंग में अपना पहला स्थान बरकरार रखा था। अमेरिकी स्मार्टफोन कंपनी Apple दूसरे और चीन की Xiaomi तीसरे स्थान पर थी।

By Gopi Soni

Never stop learning, because life never stops teaching

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *