Headlines

Maharashtra Businessman Wins rs 5 Crore While Gambling Online Then Loses 58 Crore Nagpur incident details

ऑनलाइन जुए में पहले जीते 5 करोड़, फिर लगी 58 करोड़ की चपत! नागपुर के बिजनेसमैन से ठगी

एक बिजनेमैन को ऑनलाइन बाजी लगाना इतना महंगा पड़ गया जिसके बारे में सुनकर हर कोई चौंक जाए। नागपुर के व्यापारी ने पहले जुए में 5 करोड़ रुपये की बड़ी रकम जीती। लेकिन यह मछ्ली के लिए फेंका गया कांटा साबित हुआ। 5 करोड़ जीतने के बाद बिजनेसमैन को 58 करोड़ गंवाने पड़ गए। जब उसने पुलिस में शिकायत दर्ज की तो एक संदिग्ध को पुलिस ने पकड़ने की कोशिश, लेकिन वह पहले ही भाग खड़ा हुआ। 

नागपुर में बिजनेसमैन ने 58 करोड़ रुपये ऑनलाइन जुए की बाजी में गंवा दिए। NDTV के अनुसार, ठगी का शिकार होने के बाद व्यापारी ने अनंत उर्फ सोंटू नवरत्न जैन के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई। सोंटू का निवास नागपुर से 160 किलोमीटर दूर गोंडा शहर में बताया गया। लेकिन पुलिस की रेड से पहले ही वहां से फरार हो गया और दुबई भाग गया। पुलिस को मौके से 14 करोड़ रुपये, 4 किलो सोने के बिस्कुट मिले। 

प्रथम दृष्टया में जैन ने पीड़ित को ऑनलाइन जुए में हाथ आजमाने के लिए अपने झांसे में ले लिया। शुरुआत में पीड़ित घबरा रहा था लेकिन धीरे धीरे वह आरोपी के झांसे में आता चला गया और उसने जैन के खाते में 8 लाख रुपये ट्रांसफर कर दिए। जैन ने व्यापारी को WhatsApp पर एक लिंक भेजा और उस पर जाकर ऑनलाइन गैम्बलिंग अकाउंट खोलने के लिए कहा। बिजनेसमैन को अकाउंट में 8 लाख रुपये दिखाई दिए और उसने जुआ खेलना शुरू कर दिया। 

शुरुआत में व्यापारी जुए में जीतने लगा, लेकिन 5 करोड़ रुपये जीतने के बाद उसने जुए में 58 करोड़ रुपये गंवा दिए। व्यापारी को ठगी का शक हुआ तो उसने अपना पैसा वापस मांगना चाहा, लेकिन जैन ने मना कर दिया। उसके बाद व्यापारी ने साइबर पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। भारतीय दंड संहिता के तहत फ्रॉड का केस दर्ज किया गया। जैन के घर छापेमारी हुई तो पुलिस को 14 करोड़ रुपये कैश और 4 किलो सोने के बिस्कुट वहां से मिले। आरोपी फरार हो चुका था। 

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

संबंधित ख़बरें

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *