Headlines

छत्तीसगढ़ के 12 जिलों के लिए यलो अलर्ट:रायपुर में देर रात बारिश से कई इलाके जलमग्न, भाठागांव से काठाडीह रोड पर भरा पानी

छत्तीसगढ़ में मौसम विभाग ने भारी बारिश की संभावना जताई गई है। रायपुर बिलासपुर समेत 12 जिलों के लिए यलो अलर्ट जारी किया गया है। रायपुर में देर रात हुई बारिश के बाद कई इलाके जलमग्न हो गया है।भाठागांव से काठाडीह रोड में पानी भर गया है। सड़क से गुजरने वालों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

मध्य छत्तीसगढ़ में भी भारी बारिश का अलर्ट है जबकि उत्तर छत्तीसगढ़ यानी सरगुजा संभाग में राहत वाली बारिश की उम्मीद जताई गई है। अब तक सरगुजा में कम वर्षा की वजह से सूखे जैसी स्थिति बनी हुई थी लेकिन आज से मौसम विभाग ने हल्की से मध्यम बारिश होने के संकेत दिए हैं।

भाठागांव इलाके में पानी भरे रोड से गुजरती हुईं स्कूली छात्राएं।

भाठागांव इलाके में पानी भरे रोड से गुजरती हुईं स्कूली छात्राएं।

बस्तियों में भी पानी भर गया है, सड़क से ऊपर बहते पानी से गुजरते हुए लोग।

बस्तियों में भी पानी भर गया है, सड़क से ऊपर बहते पानी से गुजरते हुए लोग।

दक्षिण छत्तीसगढ़ में लगातार बारिश हो रही है, जिससे पुल-पुलिया और नदी-नाले उफान पर हैं। मौसम वैज्ञानिक के मुताबिक प्रदेश के कई जिलों में आज हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। कुछ जगहों पर गरज-चमक के साथ आकाशीय बिजली गिरने और भारी बारिश होने की संभावना है।

इलाके में पानी भरने से फंसे लोगों को निकालते हुए रेस्क्यू की टीम।

इलाके में पानी भरने से फंसे लोगों को निकालते हुए रेस्क्यू की टीम।

अब तक हुई बारिश के आंकड़े मिलीमीटर में
प्रदेश में इस सीजन में सबसे ज्यादा बीजापुर में 1002.9 मिलीमीटर बारिश हुई है। जबकि बालोद में 634.6 मिमी, धमतरी में 532.2 मिमी, राजनांदगांव में 568.3 मिमी और सुकमा में 797.6 मिमी बारिश 1 जुलाई से 27 जुलाई तक रिकॉर्ड की गई है, जो सामान्य से ज्यादा है। जबकि सरगुजा में केवल 172.5 मिमी ही बारिश हुई है, जो यहां सूखे जैसी स्थिति को बताता है। इसके अलावा राजधानी रायपुर में 520 मिमी औसत बारिश हुई है, जो सामान्य है।

दक्षिण छत्तीसगढ़ में लगातार बारिश हो रही है।

दक्षिण छत्तीसगढ़ में लगातार बारिश हो रही है।

अगले 24 घंटे कैसा रहेगा मौसम
मौसम विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक एक निम्न दाब का क्षेत्र दक्षिण ओडिशा और उससे लगे उत्तर आंध्र प्रदेश के ऊपर स्थित है और इसके साथ ऊपरी हवा का एक चक्रवात 7.6 किलोमीटर ऊंचाई तक फैला हुआ है। मानसूनी द्रोणिका दुर्ग से होते हुए पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी तक विस्तारित है। प्रदेश में आज अधिकांश जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश होने और गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।

प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज चमक के साथ बिजली गिरने और भारी बारिश होने की भी संभावना है। मानसून द्रोणिका और निम्न दाब का क्षेत्र उत्तर की ओर जाने की संभावना है। इसके कारण उत्तर छत्तीसगढ़ में भी बारिश होने की संभावना है। मध्य छत्तीसगढ़ में भारी बारिश की संभावना जताई गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *