दुर्ग जिला अस्पताल में भरा पानी:ड्रेनेज सिस्टम फेल, एक घंटे की बारिश से कई वार्ड लबालब; मरीज-स्टाफ होते रहे परेशान

दुर्ग जिला अस्पताल में रविवार को एक घंटे की बारिश के बाद पानी भर गया। ड्रेनेज सिस्टम फेल होने से बरसात का पानी हॉस्पिटल में घुस गया। जिससे मरीजों के साथ अस्पताल स्टाफ परेशान होते रहे। 10 करोड़ रुपए खर्च कर अस्पताल को एनएचएम से क्वॉलिटी सर्टिफिकेट दिया गया है।

अस्पताल में जल भराव होने पर उसे निकालने के लिए लगे कर्मचारी

अस्पताल में जल भराव होने पर उसे निकालने के लिए लगे कर्मचारी

अस्पताल के कर्मियों ने कई घंटे की मशक्कत के बाद नाली को साफ किया और उसके बाद धीरे-धीरे पानी बाहर गया। सिविल सर्जन ने पानी को बाहर निकालने में अस्पताल के सभी सफाई कर्मियों की ड्यूटी लगाई थी।

बारिश से शहर के कई इलाकों में हुआ जल भराव

बारिश से शहर के कई इलाकों में हुआ जल भराव

पानी निकासी की व्यवस्था ठप

बारिश के चलते अस्पताल के बरामदे से लेकर मानसिक रोगी जांच कक्ष और कई वार्डों तक पानी जमा हो गया था। इसको निकालने में काफी दिक्कत हुई। जलभराव होने से पूरा अस्पताल मानो स्वीमिंग पूल में तब्दील हो गया था।

जिला अस्पताल दुर्ग की ओपीडी।

जिला अस्पताल दुर्ग की ओपीडी।

एनएचएम से जिला अस्पताल को मिला है क्वॉलिटी सर्टिफिकेट

बच्चों को गुणवत्तापूर्वक स्वास्थ्य प्रदान करने में दुर्ग जिला अस्पताल और पाटन सीएचसी को नेशनल हेल्थ मिशन की ओर से पहल मुस्कान के अंतर्गत क्वॉलिटी सर्टिफिकेट दिया गया था। प्रदेश से दो ही अस्पतालों का चयन इसके लिए किया गया है। जिला अस्पताल को बेहतरीन सुविधाओं की वजह से और क्वॉलिटी हेल्थ उपलब्ध कराने की वजह से मुस्कान क्वॉलिटी सर्टिफिकेट के लिए चुना गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *