Headlines

BJP के अभेद किले में मल्लिकार्जुन खड़गे की सभा:राजनांदगांव में ‘भरोसे का सम्मेलन’ में शामिल होंगे, कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद तीसरा दौरा

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे इस समय छत्तीसगढ़ दौरे पर हैं। गुरुवार शाम वे रायपुर एयरपोर्ट पहुंचे, जहां उनका भव्य स्वागत हुआ। आज वे राजनांदगांव में होने वाले भूपेश सरकार के ‘भरोसे का सम्मेलन’ में शामिल होंगे। खड़गे सोमनी से लगे ग्राम ठेकवा में करीब 12 बजे सभा को संबोधित करेंगे।

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद खड़गे का यह तीसरा दौरा है। इससे पहले मल्लिकार्जुन खड़गे की सभा जांजगीर जिले में आयोजित की गई थी। यहां भी वे भरोसे का सम्मेलन में शामिल हुए थे। इसके बाद अब वे रमन सिंह के विधायकी क्षेत्र में पहुंच रहे हैं।

राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के साथ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पार्टी के तमाम दिग्गज नेता यहां एक साथ दिखाई देंगे। रमन के गढ़ में कांग्रेस का चुनाव से पहले यह शक्ति प्रदर्शन भी होगा।

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत पार्टी के सभी शीर्ष नेता मौजूद रहेंगे। (फाइल फोटो)

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत पार्टी के सभी शीर्ष नेता मौजूद रहेंगे। (फाइल फोटो)

राजनांदगांव की क्या है सियासी पृष्ठभूमि
छत्तीसगढ़ में राजनांदगांव जिला प्रदेश की संस्कारधानी के नाम से जाना जाता है। यहां जिले में कुल 4 विधानसभा सीटें हैं। राजनांदगांव प्रदेश की हॉट सीटों में से एक है क्योंकि ये सीट छत्तीसगढ़ में 15 सालों तक मुख्यमंत्री रहे रमन सिंह की विधायकी वाली है।

साल 2008 से लेकर अब तक पूर्व मुख्यमंत्री ही इस सीट से जीतते आए हैं। रमन सिंह को उनके तीन कार्यकाल यानी 2008, 2013 और 2018 के चुनाव में राजनांदगाव से ही जीत हासिल हुई है। जबकि उनके बेटे अभिषेक सिंह यहां से लोकसभा सांसद रह चुके हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह राजनांदगांव विधानसभा की सीट से विधायक हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह राजनांदगांव विधानसभा की सीट से विधायक हैं।

राजनांदगांव में खड़गे की सभा के सियासी मायने
जिले में कुल 4 विधानसभा सीटें हैं, राजनांदगांव, डोंगरगढ़, डोंगरगांव और खुज्जी विधानसभा। इन चारों सीटों में केवल 1 राजनांदगांव की सीट ही बीजेपी के पास है बाकी 3 सीटों में कांग्रेस के विधायक काबिज हैं।

इनमें डोंगरगढ़ की सीट अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित है। मल्लिकार्जुन खड़गे पार्टी का सबसे बड़ा दलित चेहरा हैं। इसलिए डोंगरगढ़ विधानसभा के मतदाताओं में इसका असर होगा। डोंगरगढ़ में इस समय भुवनेश्वर बघेल विधायक हैं, जो कांग्रेस पार्टी से ही है। डोंगरगांव से दलेश्वर साहू और खुज्जी से विधायक छन्नी साहू है।

पिछले चुनाव में यहां रमन सिंह के सामने अटल बिहारी बाजपेयी की भतीजी करुणा शुक्ला थीं। जिन्होंने रमन सिंह को कड़ी टक्कर दी थी। पूर्व मुख्यमंत्री महज 17 हजार वोटों से ही जीत पाए थे। ऐसे में इस बार रमन के गढ़ में सेंध लगाने की पूरी कोशिश कांग्रेस करेगी।

इससे पहले जांजगीर जिले में मल्लिकार्जुन खड़गे की सभा रखी गई थी। (फाइल फोटो)

इससे पहले जांजगीर जिले में मल्लिकार्जुन खड़गे की सभा रखी गई थी। (फाइल फोटो)

इससे पहले जांजगीर में हुई थी खड़गे की सभा

इससे पहले मल्लिकार्जुन खड़गे की सभा जांजगीर जिले में आयोजित की गई थी। यहां भरोसे का सम्मेलन में मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल हुए थे। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष की सभा अनुसूचित जाति वर्ग बहुल जांजगीर-चांपा जिले की सीटों को ध्यान में रखकर कराई गई थी।

राजनांदगांव में भी डोंगरगढ़ एससी सीट हैं, साथ ही अन्य विधानसभा क्षेत्रों में भी SC वर्ग का प्रभाव देखने को मिलता है। इसलिए जांजगीर के बाद अब राजनांदगांव में मल्लिकार्जुन खड़गे आ रहे हैं। कार्यक्रम में CM भूपेश बघेल, डिप्टी सीएम टीएस सिंहदेव, स्पीकर चरणदास महंत, प्रभारी कुमारी सैलजा और पीसीसी अध्यक्ष दीपक बैज समेत सूबे के तमाम मंत्री, नेता और पदाधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *