Headlines

बिलासपुर में 14 टेबल पर होगी वोटों की गिनती: काउंटिंग में लगेंगे 500 अधिकारी-कर्मचारी, 17 से 24 राउंड में होगी मतगणना

बिलासपुर जिले की 6 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना कोनी स्थित इंजीनियरिंग कॉलेज परिसर पर बने स्ट्रॉन्ग रूम में 3 दिसंबर को सुबह 8 बजे से शुरू होगी। इसके लिए विधानसभावार 14-14 टेबल लगाए जाएंगे। 17 से 24 राउंड में वोटों की गिनती का काम पूरा होगा।

लोगों को मतगणना का रुझान सुबह 9 बजे से ही मिलना शुरू हो जाएगा। काउंटिंग के लिए जिला प्रशासन ने 500 अधिकारियों-कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई है। बुधवार को कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने मतगणना स्थल का निरीक्षण कर तैयारियों का जायजा लिया।

छत्तीसगढ़ में 70 विधानसभा सीटों के लिए दूसरे चरण का मतदान 17 नवंबर को पूरा हो गया। बिलासपुर जिले में भी दूसरे चरण में वोटिंग हुई। इसके बाद ईवीएम और वीवीपैट को कोनी स्थित इंजीनियरिंग कॉलेज के स्ट्रॉन्ग रूम में कड़ी सुरक्षा के बीच सील बंद कर रखा गया है। जिला निर्वाचन कार्यालय ने विधानसभावार मतगणना के लिए कक्षों के साथ चक्रों के निर्धारण की व्यवस्था की है। बता दें कि जिले के 6 विधानसभा क्षेत्रों में 108 प्रत्याशी चुनाव मैदान में है,

जिनके भाग्य का पिटारा मतगणना के दिन खुलेगा।

500 अधिकारी-कर्मचारी करेंगे वोटों की गिनती

जिले की छह विधानसभा सीटों के लिए वोटों की गिनती के लिए 500 अधिकारियों-कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जाएगी। मतगणना के लिए इन्हें पहले और दूसरे दौर का प्रशिक्षण दिया जा चुका है। जिला प्रशासन ने रैंडमाइजेशन के माध्यम से अधिकारियों-कर्मचारियों का चयन किया है। कलेक्ट्रेट के एनआईसी कार्यालय कलेक्टर व जिला निर्वाचन अधिकारी अवनीश शरण की मौजूदगी में अधिकारियों और कर्मचारियों का नाम तय किया गया।

रिजर्व टीम मिलाकर 143 मतगणना दलों के लिए करीब 500 कर्मचारी काउंटिंग में लगेंगे। मतगणना में ड्यूटी करने वाले अधिकारी-कर्मचारी सुबह 7 बजे मतगणना स्थल पहुंच जाएंगे। उम्मीदवारों के मतगणना अभिकर्ताओं (counting agents) को भी सुबह 7 बजे प्रवेश पत्र के साथ पहुंचना होगा।

किस विधानसभा क्षेत्र में ड्यूटी, नहीं दी जानकारी

मतगणना ड्यूटी करने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों

के नाम का चयन किया गया है, लेकिन उन्हें किन

विधानसभा क्षेत्रों और किस टेबल पर ड्यूटी करना है,

इसकी जानकारी नहीं दी गई है। मतगणना के एक दिन पहले उन्हें विधानसभा क्षेत्र और मतगणना के दिन 3 दिसंबर को ही सुबह टेबल की जानकारी दी जाएगी।

विधानसभा निर्वाचन 2023

मतगणना दल बटन प्रथम रेण्डमाइजेशन | जिला बिलासपुर (छ.

मतगणना ड्यूटी के लिए 500 अधिकारियों-कर्मचारियों का रैंडमाइजेशन के माध्यम से किया चयन।

पहले पोस्टल बैलेट पेपर की होगी गिनती

प्रत्येक विधानसभा के ईवीएम मतों की गणना के लिए कक्ष में 14-14 टेबल लगाए जा रहे हैं। पहले पोस्टल बैलेट्स और ईटीपीबी मतों की गिनती अलग टेबल पर की जाएगी। मतगणना ड्यूटी में लगे कर्मियों का 25 नवंबर को मल्टीपर्पज स्कूल में सुबह 11 बजे

से प्रशिक्षण आयोजित किया गया है। एनआइसी के उप निदेशक मनोज कुमार सिंह ने चुनाव आयोग के सॉफ्टवेयर में रैंडमाइजेशन की प्रक्रिया पूर्ण की। इस अवसर पर जिला पंचायत के सीईओ अजय अग्रवाल, उप जिला निर्वाचन अधिकारी शिवकुमार बनर्जी समेत सभी 6 विधानसभा क्षेत्रों के रिटर्निंग अफसर मौजूद रहे।

मतगणना स्थल का निरीक्षण कर कलेक्टर ने तैयारियों का लिया जायजा

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी अवनीश शरण ने बुधवार को मतगणना स्थल का बारीकी से निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने एक घंटे मतगणना की प्रक्रिया की पूरी जानकारी ली और मतगणना टेबल व्यवस्था, सुरक्षा व्यवस्था, मीडिया सेंटर, बैठक व्यवस्था के साथ अन्य व्यवस्थाओं के बारे में अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश दिए।

कलेक्टर ने पारदर्शिता और निष्पक्षता के साथ मतगणना सुनिश्चित कराने के लिए कहा है। उन्होंने मतगणना के लिए निर्वाचन आयोग के नियमों के अनुसार पुख्ता और व्यवस्थित इंतजाम करने के निर्देश दिए। उन्होंने मतगणना स्थल पर बैरिकेड्स, सेक्शंस,राजनीतिक व गैर राजनीतिक व्यक्तियों की एंट्री, मीडिया प्रतिनिधियों, रिजर्व कर्मचारियों, सीसीटीवी निगरानी व्यवस्था के संबंध में भी अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने इस बार सुरक्षा के मद्देनजर प्रत्याशियों और अधिकारियों के परिचय पत्र पर कलर कोडिंग कराने को कहा, ताकि प्रत्याशियों, एजेंट्स, और शासकीय अधिकारियों, कर्मचारियों की स्पष्ट पहचान सुनिश्चित हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *